जब हम Mutual Funds में हमारे पैसे निवेश करने का सोचते है तो हमारे मन मे कई सारे सवाल आते है,जैसे की हमारे पैसे डूब तो नहीं जाएंगे ? कंपनी हमारे पैसे लेकर भाग तो नहीं जाएंगी ? मार्केट गिरेगा तो नहीं ? इत्यादि। 

 लेकिन इन सभी प्रश्नों का जवाब आपको इस पोस्ट में मिल जाएगा। हमारी सरकार की एक संस्था SEBI सारे Mutual Funds पर नजर रख रही होती है। इसलिए कोई भी कंपनी आपका पैसा डूबा नहीं सकती। आपको शायद पता नहीं होगा की हमारे देश मे 500 से ज्यादा Mutual Funds है और इन सब में लोग करोड़ों रुपए लगा रहे है। क्युकी इसका एक कारण यह है की,बैंक की FD के ब्याज घट रहे है और पिछले पांच सालों में Mutual Funds ने बहुत अच्छा रिटर्न भी दिया है।

 Mutual Funds क्या है? 

 Mutual funds एक संग्रह है,जिसमे एक साथ लाखो लोगो के पैसे निवेश किए जाते है। आसान भाषा मे कहे तो mutual funds बहुत सारे निवेशकों से बना फंड है। Mutual Funds कंपनियां इन पैसे को अलग अलग जगहों पर निवेश करती है,जैसे की इक्विटी,गोल्ड,बोंड्स। उनका सिर्फ एक ही काम होता है की निवेशकों को ज्यादा से ज्यादा रिटर्न देना।

 एक फंड मे हजारों करोड़ रुपए होते है और इस कारण उन पैसों को निवेश करने का काम एक एक्सपर्ट करता है,जिसे फंड मैनेजर कहते है। फंड मैनेजर का काम हमारे पैसों को अच्छी जगहों पर निवेश करने का होता है,ता की हमे अच्छे से अच्छा रिटर्न मिल सके।

कई लोग हर महीने 500 रुपए लगाकर भी mutual funds में निवेश करते है,जिन्हें SIP कहा जाता है।

Mutual Funds काम कैसे करता है ?

अगर आप स्टॉक मार्केट में पैसे निवेश करते हो तो आपको पता होगा की उसमें रिस्क ज्यादा होता है और वहां पर हमारा पैसा कुछ ही दिनों में डूब भी सकता है। क्युकी हम एक ही स्टॉक मे सारा पैसा लगा देते है। लेकिन Mutual Funds कंपनी एक बकेट बनाती है और उस बकेट मे आपके सभी स्टॉक मे हिस्सेदारी बना देती है। इसका फायदा यह होता है की सभी कंपनी घाटे में नहीं होगी और आपको ज्यादा नुक़सान नहीं होगा।

SIP के बारे ने जानने के लिए यहाँ क्लिक करे 

Mutual Funds के प्रकार

 Mutual funds के दो प्रकार है। एक है संरचना के आधार पर और दूसरा assest के आधार पर 

संरचना के आधार पर Mutual Funds

  • Open-ended Mutual funds
  • Close-ended Mutual funds
  • Interval Funds

Assest के आधार पर Mutual Funds

  • Debt Fund
  • Liquid Mutual Funds
  • Money Market Funds
  • Equity Funds
  • Balanced Mutual funds